Astrology Articles

  • करवा चौथ : छलनी से ही क्यों देखते हैं चांद!
    हिंदू धर्म में महिलाओं के लिए करवा चौथ व्रत का खास महत्व है। इस साल 30 अक्टूबर यानी शुक्रवार को करवा चौथ का व्रत है। कार्तिक मास में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ का व्रत आता है। यह व्रत सुख-सौभाग्य, दांपतत्य जीवन में ........

  • रोहिणी नक्षत्र में करवा चौथ, बढेगा पति-पत्नी में प्रेम
    30 अक्टूबर यानी शुक्रवार को सुहागिनों का करवा चौथ का व्रत है। इस बार करवा चौथ व्रत शु्क्रवार और रोहिणी नक्षत्र में पड रहा है। इस .......

  • भक्तों की सभी इच्छाएं पूरी करती है सिद्धिदात्री देवी
    मां दुर्गा की नौवीं शक्ति सिद्धिदात्री देवी है। नवरात्र के नौवें दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा और आराधना की जाती है। मां सिद्धिदात्री संसार की सब सिद्धियों को प्रदान करने ....

  • नवरात्र में कुलदेवी का पूजन क्यों करते हैं.....
    नवरात्र में अपने कुल देवी-देवताओं की पूजा का विशेष प्रावधान माना गया है । वैसे दोनों ही नवरात्र मनाए जाते हैं। फिर भी इस नवरात्र को.......

  • क्यों जलाते हैं नवरात्र में अखंड ज्योत
    शक्ति की उपासना का पर्व नवरात्र प्रतिपदा से नवमी तक निश्चित नौ तिथि, नौ नक्षत्र, नौ शक्तियों की नवधा भक्ति के साथ सनातन काल से मनाया .......

  • धन, वैभव व सुख शांति प्रदान करती है मां महागौरी
    भवानी मां की आठवीं शक्ति महागौरी देवी के नाम से जानी जाती है। इसलिए नवरात्र के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा और आराधना की जाती है। महागौरी देवी ही त्रिनेत्री, दुर्गा, शाकुंभरी और चंडी देवी है। देवी ने दानवों का नाश करने के लिए ........

  • ऎसे करें कन्या पूजन, दूर होंगे घर के सारे दोष
    हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार नवरात्र में कन्या पूजन का विशेष महत्व है। अष्टमी व नवमी तिथि के दिन तीन से नौ वर्ष की कन्याओं का पूजन किए जाने की परंपरा है। धर्म ग्रंथों के अनुसार तीन वर्ष से लेकर नौ वर्ष की कन्याएं साक्षात माता का .......

  • भक्तों की ग्रह बाधा दूर करती है मां कालरात्रि देवी
    मां दुर्गाजी की सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम जानी जाती हैं। आज के दिन श्रद्धालु देवी की सातवीं शक्ति मां कालरात्रि की आराधना करते है और इस पूजन से भक्तों को मन की शांति मिलती है .......

  • भक्तों को कभी भी निराश नहीं करती मां कात्यायनी
    नवरात्र के छठा दिन मां कात्यायनी की पूजा होती है, जो अपने भक्त की हर मुराद पूरी करती हैं। बताया जाता है कत नाम के एक प्रसिद्ध महर्षि थे, उनके पुत्र ऋषि कात्य हुए। इन्हीं कात्य के गोत्र में विश्वप्रसिद्ध महर्षि कात्यायन उत्पन्न हुए थे। इन्होंने ......

  • क्यों जरूरी हैं नवरात्रों में ब्रह्मचर्य का पालन
    शास्त्रों और पुराणों के अनुसार शारदीय नवरात्र अधिक महत्वपूर्ण है। प्राचीन काल में नवसंवत्सर से आरंभ होने वाला नवरात्र ही अधिक प्रचलित था। नवरात्र का अर्थ है नौ रातें। इन नौ रातों और दस दिनों के दौरान, देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती .........

  • संतान सुख के लिए करें स्कंदमाता की आराधना
    नवरात्र के पांचवें दिन मां दुर्गा के नौ रूपों में से स्कंदमाता रूप की पूजा की जाती है। स्कंदमाता की चार भुजाएं हैं। माता अपने दो हाथों में कमल पुष्प धारण किए हुए हैं और एक हाथ से कुमार कार्तिकेय को गोद लिए हुए .........

  • उन्नति के लिए करें मां कूष्माण्डा की उपासना
    मां दुर्गा का चौथा स्वरूप कूष्माण्डा देवी का है। इसलिए नवरात्र के चौथे दिन मां कूष्माण्डा देवी की पूजा और आराधना की जाती है। जब सृष्टि की उत्पत्ति नहीं हुई थी, तब हर तरफ घना अंधकार था........

  • भक्तों के सभी कष्ट हरती हैं मां चंद्रघंटा
    मां दुर्गा की तीसरी शक्ति चंद्रघंटा है। नवरात्रि में तीसरे दिन इसी देवी की पूजा-आराधना की जाती है। देवी का यह स्वरूप परम शांतिदायक और कल्याणकारी है। इसीलिए कहा जाता है कि हमें निरंतर उनके पवित्र विग्रह को ध्यान में रखकर साधना .......

  • मां दुर्गा का दूसरा स्वरूप ब्रह्मचारिणी देवी
    आज नवरात्र का दूसरा दिन है। नवरात्र के दूसरे दिन "भगवती मां ब्रह्मचारिणी" की पूजा का विधान है। साधक एवं योगी इस दिन अपने मन को भगवती मां के श्री चरणों मे एकाग्रचित करके स्वाधिष्ठान चक्र में स्थित करते हैं और मां की कृपा प्राप्त ........

  • पहला नवरात्र आज, मां शैलपुत्री की पूजा
    वैसे तो साल में दो बार नवरात्र आते है। एक तो चैत्र मास में और दूसरा आश्विन मास में होता है। इस बार 13 अक्टूबर से नवरात्र शुरू हो रहे है। जो कि 21 अक्टूबर तक चलेगें। 22 अक्टूबर को दशमी है। नवरात्र पूजन के प्रथम दिन मां शैलपुत्री जी का पूजन होता है। माँ शैलपुत्री दाहिने हाथ में ........

Home I About Us I Contact I Privacy Policy I Terms & Condition I Disclaimer I Site Map
Copyright © 2020 I Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved I Our Team