Astrology Articles

  • शिव-पार्वती की बेटी है "अशोक सुंदरी देवकन्या"
    बहुत ही कम लोगों को पता है कि भगवान शिव शंक्कर और माता पार्वती की एक पुत्री भी थी। जिनका नाम "अशोक सुंदरी" था, इनका विवाह राजा नहुष से हुआ था। अशोक सुंदरी देवकन्या हैं, इस बात का उल्लेख .........

  • शास्त्रोंनुसार श्रवण नक्षत्र में शिव पूजा का विशेष महत्व
    श्रावण हिन्दू पंचांग का पांचवा माह श्रावण होता है। ज्योतिष के अनुसार इस मास के दौरान या पूर्णिमा के दिन आकाश में श्रवण नक्षत्र का योग बनता.......

  • अनाज से करें भगवान भोले को प्रसन्न
    देवों के देव महादेव जल्द ही अपने भक्तों की भक्ति से खुश हो जाते है और भक्तों पर उनकी कृपा प्राप्त हो जाती है। आज आपको हम ........

  • शिवमहापुराण : इन अचूक टोटके से मिलेगा मनचाहा फल
    सावन का महीना भगवान भोले शंकर की भक्ति के लिए अति-महत्वपूर्ण माना जाता है। शास्त्रों के अनुसार इस मास में विधि पूर्वक शिव उपासना करने से मनचाहे फल की प्राप्त होती है। सावन में ही कई प्रमुख त्योहार जैसे- हरियाली अमावस्या .......

  • सावन में हर सोमवार का हैं विशेष महत्व
    वैसे तो सावन का पूरा महीना भगवान शिव को अर्पित होता है, पर सावन के सोमवार को भगवान शिव की पूजा करने से विशेष फल मिलता है। आदिकाल से ही इस दिन का विशेष महत्व रहा है। कहा जाता है सावन के सोमवार का व्रत करने से मनचाहा जीवनसाथी मिलता है और दूध की धार के साथ भगवान शिव से जो मांगों वह पूरा होता है।....

  • राशि अनुसार करें शिव का अभिषेक, होगी मनोकामना पूर्ण
    वैसे तो सावन के पूरे महीने में शिवजी की विशेष पूजा की जाती है। यदि कोई व्यक्ति शिवजी की कृपा प्राप्त करना चाहता है तो उसे प्रतिदिन शिवलिंग पर जल अर्पित करना चाहिए। विशेष रूप से सावन के हर सोमवार शिवजी का ........

  • तो इसलिए शिवजी को चढाते हैं जल और बेलपत्र!
    हिन्दू धर्म में भगवान शिव को त्रिदेवों में गिना जाता है। भगवान शिव को कोई रूद्र तो कोई भोलेनाथ के नाम से पुकारता है। माना जाता है कि भगवान शिव भक्त की भक्ति मात्र से प्रसन्न हो जाते हैं। भगवान शिव की पूजा में.......

  • नागपंचमी : ऎसे चमकाए आपनी किस्मत
    नाग भगवान शंकर के अंग भूषण माने गए हैं। नागपंचमी के दिन शिवजी के साथ ही नागों की पूजा करने से विशेष फल की प्राप्त होती है। नाग-पंचमी श्रावण मास में शुक्लपक्ष की पंचमी को मनाई जाती है। हिंदू .......

  • पारद शिवलिंग पूजन का विशेष महत्व क्यों!
    पारद का महत्व आयुर्वेद ग्रंथों में प्रचुरता से बताया गया है। शुद्ध पारद का संस्कार द्वारा बंधन करके जिस देवी-देवता की प्रतिमा बनाई जाती है, वह स्वयं सिद्ध होती है। वाग्भट्ट के मतानुसार, जो पारदशिवलिंग का भक्तिसहित पूजन करता है, उसे तीनोे लोकों में स्थित ........

  • पाना हैं मनचाहा वरदान तो करें शिव की उपासना
    सावन के महीने में सोमवार का विशेष महत्व होता है। इसे भगवान शिव का दिन माना जाता है। इसलिए सोमवार के दिन शिव भक्त शिवालयों में जाकर शिव की विशेष पूजा अर्चना करते है। शिव की उपासना व व्रत करने की अगर विधि सही ........

  • घर में "तुलसी" है तो जरूर जान ले ये बातें
    हिन्दू धर्म में तुलसी के पौधे को पवित्र माना जाता हैं। माना जाता है कि जिस घर के आंगन में तुलसी का पौधा लगा होता है उस घर से कलह .......

  • विवाह के लिए शुभ मुहूर्त का बडा महत्व
    विवाह मंडप में शादी के बंधन में बंध रहे जोडे के लिए सात फेरों के लिए शुभ मुहुर्त का बडा महत्व है। शादी की तैयारियों, मेहमानों के स्वागत, नाच-गाने की मौज-मस्ती में शुभ ......

  • अंक बतायेंगे कैसे प्रेमी हैं आप !
    मूलांक 1 : आप बहुत ही ऊर्जावान है इसलिए जिससे भी प्यार करते हैं, बहुत ही गर्मजोशी के साथ करते हैं। 1 अंक में विशेषता एवं निरालापन होता है। आप जिससे प्यार करते हैं उस पर नियंत्रण करना चाहते हैं जबकि प्यार ......

  • राशि बताए आपकी दांपत्य जीवन
    दांपत्य जीवन में सेक्स का अम स्थान है। यदि सेक्सुअल लाइफ अच्छी हो तो प्यार अपने आप ही बढता जाता है। जिस प्रकार स्वस्थ रहने के लिए पोष्टिक आहार की जरूरत होती है, उसी प्रकार खुशहाल दांपत्य जीवन के ....

  • क्या आप की कुण्डली मे घर से भाग कर शादी करने का योग है
    (क) जब कुण्डली में छठे, सातवें और आठवें तीनों घरों में पापी ग्रह हों। (ख) चतुर्थ स्थान अथवा चतुर्थेश पर प्रथकतावादी ग्रहों-सूर्य, शनि, राहु का प्रभाव हो तो लडका एवं लडकी घर से भाग कर माता-पिता की मर्जी के बगैर शादी करते है।....

Home I About Us I Contact I Privacy Policy I Terms & Condition I Disclaimer I Site Map
Copyright © 2019 I Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved I Our Team