खिडकी-दरवाजे बनवाएं वास्तु के अनुसार

जीवन में हर व्यक्ति की चाहते होती है कि उसके परिवार में सभी लोगों खुशहाल जीवन बिताएं इसलिए अगर आप ने घर बनवाने की सोच रहे हैं तो जरूरी है कि कुछ बातों का ख्याल रखा जाये। अगर आप के घर में एक से अधिक दरवाजे हैं तो मुख्य प्रवेश द्वार उत्तर या फिर पूर्व में होना चाहिए। दक्षिण मुखी में मुख्यद्वार का होना शुभ नहीं माना जाता है।
इसके अलावा भवन के चारों ओर सडक हो तो चारों दिशाओं में मुख्यद्वार रखने से घर में सुख शांति और धन का योग बना रहता है। द्वार के ऊपर जाली नहीं होनी चाहिए। इसके अलावा घर के द्वार के सामने पेड, खंूटा, कुआं तथा पानी निकास की नाली नहीं होेने चाहिए। वरना इससे घर के लोगों पर बुरा प्रभाव पडता है। यह होने से स्वामी का नाश होता है। वृक्ष होने से बालकों को कष्ट होात है। द्वार के सामने की चड होने से शोक होता है।
नाली होने से धन खर्च होता है। घर में दरवाजे, खिडकी की संख्या सम जैसे 2, 4, 6 आदि होनीचाहिए। इसके साथ सभी खिडकी और दरवाजे एक ही प्रकार की लकडी के बने होने चाहिए इस बात का ध्यान रखिए। मुख्य द्वार पर देहरी जरूर होनी चाहिए।
द्वार, खिडकी और अलमारियां कभी भी आमने-सामने नहीं होनी चाहिए। इसके अलावा घर के अग्र भाग में खिडकी रखना श्रेष्ठ होता है इससे काम में सफलता मिलती है। घर के पीछे और बाएं भाग में खिडकी अशुभ होती है।

Home I About Us I Contact I Privacy Policy I Terms & Condition I Disclaimer I Site Map
Copyright © 2022 I Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved I Our Team