Astrology Articles

  • इस श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर 42 साल बाद बना ये महासंयोग
    भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव का कृष्ण जन्मभूमि सहित पूरे देश में बडी धूमधाम से मनाया जाता है। कृष्ण जन्मभूमि पर देश-विदेश से लाखों श्रद्धालुओं की भीड उमडती है। इस बार श्रीकृष्ण .........

  • हर साल बढ़ने वाला विश्व का एकमात्र शिवलिंग!
    गरियाबंद जिला। जिला मुख्यालय से 3 किलोमीटर की दूरी पर बसे ग्राम मरौदा के जंगलों में प्राकृतिक शिवलिंग "भूतेश्वर महादेव" स्थित है। पूरे विश्व में इसकी ख्याति हर वर्ष बढ़ने वाली इसकी ऊंचाई के लिए फैली ....

  • शनि भय से मुक्ति हेतु पांच सूत्र उपाय
    हंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार शनिदेव को ग्रहों में न्यायाधीश का पद प्राप्त है। मनुष्य के अच्छे-बुरे कमों का फल शनिदेव ही उसे देते हैं। जिस व्यक्ति पर शनिदेव की टे़डी नजर प़ड जाए, वह थो़डे ही समय में राजा से रंक बन जाता है और जिस पर ........

  • मां सरस्वती को ही क्यों माना जाता है ज्ञान की देवी!
    पुराणों व अन्य धर्मशास्त्रों में मां सरस्वती को सतोगुण का प्रतीक माना गया है। इसी प्रकार विद्या व ज्ञान को ही सतोगुण माना गया है। मां सरस्वती .......

  • सावन के अंतिम सोमवार का महत्व
    आज सावन के आखिरी सोमवार है। सुबह से ही शिवालयों में श्रद्धालुओं की भारी भी़ड उम़ड प़डी है। जगह-जगह शिवलिंग बनाकर भगवान शिव की आराधना की जा रही है। आज भक्तों द्वारा विशेष-पूजा अर्चना का........

  • सावन में कावड पदयात्रा का महत्व और प्रकार
    सावन का महीना भगवान शिव जी को समर्पित होता है। इस महीने में शिवभक्त कावड पदयात्रा पर जाते है। कहने को तो ये धार्मिक आयोजन है, लेकिन इस यात्रा को सामाजिक सरोकार से भी जोडकर देखा जाता रहा हैं। काव़ड के माध्यम यह ......

  • शिव-पार्वती की बेटी है "अशोक सुंदरी देवकन्या"
    बहुत ही कम लोगों को पता है कि भगवान शिव शंक्कर और माता पार्वती की एक पुत्री भी थी। जिनका नाम "अशोक सुंदरी" था, इनका विवाह राजा नहुष से हुआ था। अशोक सुंदरी देवकन्या हैं, इस बात का उल्लेख .........

  • शास्त्रोंनुसार श्रवण नक्षत्र में शिव पूजा का विशेष महत्व
    श्रावण हिन्दू पंचांग का पांचवा माह श्रावण होता है। ज्योतिष के अनुसार इस मास के दौरान या पूर्णिमा के दिन आकाश में श्रवण नक्षत्र का योग बनता.......

  • अनाज से करें भगवान भोले को प्रसन्न
    देवों के देव महादेव जल्द ही अपने भक्तों की भक्ति से खुश हो जाते है और भक्तों पर उनकी कृपा प्राप्त हो जाती है। आज आपको हम ........

  • शिवमहापुराण : इन अचूक टोटके से मिलेगा मनचाहा फल
    सावन का महीना भगवान भोले शंकर की भक्ति के लिए अति-महत्वपूर्ण माना जाता है। शास्त्रों के अनुसार इस मास में विधि पूर्वक शिव उपासना करने से मनचाहे फल की प्राप्त होती है। सावन में ही कई प्रमुख त्योहार जैसे- हरियाली अमावस्या .......

  • सावन में हर सोमवार का हैं विशेष महत्व
    वैसे तो सावन का पूरा महीना भगवान शिव को अर्पित होता है, पर सावन के सोमवार को भगवान शिव की पूजा करने से विशेष फल मिलता है। आदिकाल से ही इस दिन का विशेष महत्व रहा है। कहा जाता है सावन के सोमवार का व्रत करने से मनचाहा जीवनसाथी मिलता है और दूध की धार के साथ भगवान शिव से जो मांगों वह पूरा होता है।....

  • राशि अनुसार करें शिव का अभिषेक, होगी मनोकामना पूर्ण
    वैसे तो सावन के पूरे महीने में शिवजी की विशेष पूजा की जाती है। यदि कोई व्यक्ति शिवजी की कृपा प्राप्त करना चाहता है तो उसे प्रतिदिन शिवलिंग पर जल अर्पित करना चाहिए। विशेष रूप से सावन के हर सोमवार शिवजी का ........

  • तो इसलिए शिवजी को चढाते हैं जल और बेलपत्र!
    हिन्दू धर्म में भगवान शिव को त्रिदेवों में गिना जाता है। भगवान शिव को कोई रूद्र तो कोई भोलेनाथ के नाम से पुकारता है। माना जाता है कि भगवान शिव भक्त की भक्ति मात्र से प्रसन्न हो जाते हैं। भगवान शिव की पूजा में.......

  • नागपंचमी : ऎसे चमकाए आपनी किस्मत
    नाग भगवान शंकर के अंग भूषण माने गए हैं। नागपंचमी के दिन शिवजी के साथ ही नागों की पूजा करने से विशेष फल की प्राप्त होती है। नाग-पंचमी श्रावण मास में शुक्लपक्ष की पंचमी को मनाई जाती है। हिंदू .......

  • पारद शिवलिंग पूजन का विशेष महत्व क्यों!
    पारद का महत्व आयुर्वेद ग्रंथों में प्रचुरता से बताया गया है। शुद्ध पारद का संस्कार द्वारा बंधन करके जिस देवी-देवता की प्रतिमा बनाई जाती है, वह स्वयं सिद्ध होती है। वाग्भट्ट के मतानुसार, जो पारदशिवलिंग का भक्तिसहित पूजन करता है, उसे तीनोे लोकों में स्थित ........

Home I About Us I Contact I Privacy Policy I Terms & Condition I Disclaimer I Site Map
Copyright © 2022 I Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved I Our Team