भगवान शिव को भूलकर भी न चढाए ये 7 चीजें!

हिन्दू धर्म में सभी देवी-देवताओं को प्रसन्न करने, उनकी आराधना करने के विशिष्ट तरीकों का वर्णन उपलब्ध हैं। कुछ ऐसी सामग्रियां और विधियां होती हैं जो विशिष्ट आराध्य देव को बहुत पसंद होती हैं, उनकी पूजा में उन सामग्रियों की उपलब्धता मनवांछित फल प्रदान करती है। लेकिन कुछ ऐसी सामग्रियां भी होती हैं जिनका प्रयोग करना उलटा परिणाम प्रदान कर सकता है। जहां कुछ चीजें आराध्य देवी-देवताओं को पसंद आती हैं वहीं कुछ उन्हें कतई नापसंद होती हैं, ऐसे में अगर उन्हें वे अर्पित की जाएं या उनकी पूजा में उन सामग्रियों का प्रयोग किया जाए तो यह समस्या का कारण बन सकता है।
आज आपको ऐसे चीजों के बारे में बताने जा रहे है जो भगवान शिवजी को बिल्कुल पंसद नहीं है। आपसे ऐसी लगती नहीं हो इसलिए इन सात चीजों के बारे में जान लीजिए जो भोले बाबा को नहीं चढानी चाहिए।

1. तुलसी का पत्ता यह भी भगवान शिव को नहीं चढ़ाना चाहिए। इस संदर्भ में असुर राज जलंधर की कथा है जिसकी पत्नी वृंदा तुलसी का पौधा बन गई थी। शिव जी ने जलंधर का वध किया था इसलिए वृंदा ने भगवान शवि की पूजा में तुलसी के पत्तों का प्रयोग न करने की बात कही है।

2. नारियल पानी से भगवान शिव का अभिषेक नहीं करना चाहिए क्योंकि नारियल को लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है इसलिए सभी शुभ कार्य में नारयिल का इस्तेमाल होगा इसे लोग प्रसाद के तौर पर ग्रहण करते हैं। लेकिन शिव के ऊपर अर्पित होने के बाद नारियल पानी निर्माल बन जाता है जो ग्रहण योग्य नहीं रह जाता है।

3. उबला हुआ या पैकेट का दूध भगवान शवि का नहीं अर्पित करना चाहिए। इससे बेहतर है आप केवल जल या गंगाजल से अभिषेक करें। शिव जी को वही दूध चढ़ाएं जो उबला हुआ नहीं हो। पैकट का दूध भी उबाला गया होता है इसलिए यह भी पूजन योग्य नहीं होता है।

4. भगवान शिव की पूजा में केतकी का फूल वर्जित है। शवि पुराण के अनुसार ब्रह्म और विष्णु के विवाद में झूठ बोलने के कारण केतकी फूल को भगवान शिव का शाप मिला है।

5. कुमकुम और सिंदूर भी भगवान शिव को नहीं चढ़ता है।

6. शंख से भोले बाबा को जल नहीं चढ़ाना चाहिए। शिवपुराण के अनुसार भगवान भोलेनाथ ने शंखचूड़ नामक असुर का वध किया था। भगवान विष्णु का भक्त होने के कारण शंख से विष्णु और लक्ष्मी की पूजा होती है।

7. भगवान शिव वैरागी उन्हें सौन्दर्य से जुड़ी चीजें पसंद नहीं है। इसलिए कोई भी श्रृंगार की वस्तु भाले बाबा को नहीं चढ़ाएं। हल्दी भी सौन्दर्य वर्धक माना गया है इसलिए हल्दी और केसर भी शिव जी को नहीं चढ़ाएं। यह सौभाग्य और समृद्धि के लिए भगवान विष्णु को चढ़ाना चाहिए।

Home I About Us I Contact I Privacy Policy I Terms & Condition I Disclaimer I Site Map
Copyright © 2022 I Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved I Our Team