इन चाइनीज देवों की पूजा से नहीं रहती पैसों की कमी, धन बरसने लगता है

भारत में हालांकि देवों की कोई कमी नहीं है लेकिन कहते हैं कुछ चायनीज देवों की पूजा खास अंदाज में कर दी जाए तो कई पैसों की कमी नहीं रहती और भाग्य खुल भी जाता है-

लुक-फुक-साऊ : ब्रह्मा, विष्णु एवं महेश के समान ही लुक, फुक एवं साऊ चीनी देवता हैं जिन्हंं एक साथ प्रदर्शित किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि इनकी उपस्थिति से घर में सुख-समृद्धि, स्वास्थ्य एवं दीर्घायु की वृद्धि होती है। लुक उच्च श्रेणी के देवता माने जाते हैं। इनके सिर पर चपटी टोपी होती है तथा चेहरे पर लंबी काली दाढ़ी। इनके बाएं हाथ में गदा के समान एक अस्त्र होता है जिसे रूईब कहा जाता है। इनकी मूर्ति रखने से व्यक्ति ऊंचे ओहदे पर पहुंचने की कामना को पूर्ण करता है। फुक को समृद्धि का देवता माना जाता है। इनकी छवि (कद) लुक से लंबी होती है। इनके सिर पर गोल टोपी होती है तथा चेहरे पर घनी, लंबी एवं काली दाढ़ी होती है। जिस घर में फुक की मूर्ति रहती है, उस घर में आमदनी में वृद्धि होती है। साऊ को दीर्घायु का देवता माना जाता है। इनका स्वरूप बुजुर्ग वाला होता है। इनका सिर गोल एवं गंजा होता है। इनकी दाढ़ी लंबी एवं सफेद है। इनके सिर पर टोपी नहीं होती। सुख, समृद्धि, शक्ति, स्वास्थ्य एवं दीर्घायु के प्रतीक इन तीनों चीनी देवताओं (लुक-फुक-साऊ) को एक साथ एक स्थान पर रखा जाता है। इन मूर्तियों को घर के डाइनिंग रूम में आई लैवल से ऊंचा रखा जाना चाहिए। इसे कार्यालय, फैक्टरी आदि में भी रखा जाता है। इनके रखने मात्र से सकारात्मक ऊर्जा की वृद्धि होने लगती है।

कुयान कुंग : चीन के निवासी कुयान कुंग को शक्ति का प्रतीक मानते हैं। वहां के लोगों का मानना है कि कुयान कुंग की छवि को प्रवेश द्वार के पास लगाने से अनेक प्रकार की बाधाएं घर में प्रवेश नहीं कर पातीं तथा शक्ति एवं सौभाग्य की वृद्धि होती है। सेनानायक की तरह युद्ध का कवच पहने तथा युद्ध के लिए तत्पर रहने की मुद्रा में इनका स्टैच्यू आता है। नवयुवकों में जोश-उमंग उत्पन्न करने, प्रतियोगिता में जीत हासिल करने तथा व्यापार में वृद्धि करने हेतु इनकी प्रतिमा को घर या कार्यालय के प्रवेश द्वार के निकट लगाया जाता है।

हीचिंग : यह एक षोडशी स्वरूपा नवयुवती की छवि है। चीन की नवयुवतियों की प्रिय देवी मानी जाती हैं। फेंगशुई के अनुसार ही चिंग की छवि को शयनकक्ष में रखने से पति-पत्नी के बीच मधुर संबंध बना रहता है। कुंवारी कन्याओं के शयन-कक्ष में इनका स्टैच्यू रख देने मात्र से इनकी सोच में पवित्रता आने लगती है। वैवाहिक बाधाओं को दूर कराकर अच्छे जीवन साथी को प्रदान करने में ही ‘हीचिंग’ की महत्वपूर्ण भूमिका मानी जाती है। चीन में ‘हीचिंग’ की प्रतिमा प्रत्येक घर में रखी जाती है।

मदर कुयान यिन : फेंगशुई में इन्हें ‘लेडी लाफिंग बुद्ध’ तथा दया की देवी भी कहा जाता है। लोगों का मानना है कि ये जिस घर में रहती हैं, मां के समान वहां के लोगों की देखभाल करती हैं तथा बुरी नजरों के प्रभाव से बचाती हैं। यह अधिकतर बैठी हुई मुद्रा में होती हैं तथा सफेद वस्त्र धारण किए होती हैं। इनका आसन कमल का फूल है। ये घर के बच्चों तथा महिलाओं की विशेष रूप से रक्षा करती हैं। मदर कुयान यिन घर के सदस्यों के भाग्य को जगाती हैं। नवदंपति में आपसी प्रेम जगाती हैं, नि:संतानों को संतान सुख प्रदान कराती हैं तथा अनेक बीमारियों से रक्षा करती हैं।


ये चमत्‍कारी 20 संकेत बताते हैं कि लक्ष्मी की मेहरबानी होने वाली है

सफलता और सम्पन्नता के लिए सूर्योपासना के समय जपें ये खास मंत्र


क्या आप परेशान हैं! तो आजमाएं ये टोटके
इन 4 उपायों से आपके पास पैसा खिंचा चला आएगा
वार्षिक राशिफल-2017: मेष: थोडे संघर्ष के साथ 2017 रहेगा जीवन का बेहतरीन वर्ष

Home I About Us I Contact I Privacy Policy I Terms & Condition I Disclaimer I Site Map
Copyright © 2019 I Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved I Our Team