रविवार को 900 साल बाद बना तिथि का एक दुर्लभ संयोग

नई दिल्ली। इस रविवार को सुपर बाउल और ग्राउंहॉग डे के साथ-साथ एक और दुर्लभ संयोग बन रहा है। इस दिन दुर्लभ तिथि का योग भी बन रहा है। यूनिवर्सिटी ऑफ पोर्टलैंड के एक प्रोफेसर ने यह जानकारी दी है। एमएसएन डॉट कॉम के अनुसार, प्रोफेसर अजीज इनान ने बताया, "पेलिंड्रोम (आगे और पीछे से पढ़कर एक समान लगने वाला) तारीखें कई प्रकार से आम तौर पर सामान्य होती हैं, वहीं दो फरवरी, 2020 (02/02/2020) को मल्टीपल तरीके से लिखते हैं तो आगे या पीछे से पढ़ने पर यह यूनिक लगती है।"

इनान ने शनिवार को यूएसए टुडे को बताया, "यह बहुत दुर्लभ है, इसलिए हम इसे अपने जीवनकाल में देखकर बहुत खुशकिस्मत हैं।"

इसे आठ अंकों के पेलिंड्रोम के रूप में भी देख सकते हैं। जैसे 02022020। अन्य प्रकार के पेलिंड्रोम में 1-10-2011 या 9-10-19 भी हो सकते हैं।

लेकिन इनान के अनुसार, यह हर तरह से सुसंगत है, चाहे इसे महीना-दिन-साल के क्रम में लिखें या दिन-महीना-साल के क्रम में लिखें। कई देशों में अलग-अलग क्रम में तारीखें लिखी जाती हैं, इसीलिए रविवार की तारीख और भी ज्यादा दुर्लभ मानी जा रही है और यह अंतर्राष्ट्रीय पेलिंड्रोम है।

इस प्रकार की तारीख अब 101 साल बाद आएगी और उसके बाद आपको तीन मार्च, 3030 तक का इंतजार करना पड़ेगा।

इनान की गणना के अनुसार, इससे पहले ऐसा अंतिम संयोग 900 साल से भी पहले 11/11/1111 को पड़ा था।

(आईएएनएस)
कुंवारे युवक-युवतियों को निहाल करेगा वर्ष 2017
वार्षिक राशिफल-2017: मेष: थोडे संघर्ष के साथ 2017 रहेगा जीवन का बेहतरीन वर्ष
मिलेगी सरकारी नौकरी अगर करें ये खास उपाय

Home I About Us I Contact I Privacy Policy I Terms & Condition I Disclaimer I Site Map
Copyright © 2020 I Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved I Our Team