अगर आपके बनते काम बिगड रहे हैं तो समझिए आपका गुरु नीच का है, करने होंगे ये उपाय

जन्म कुंडली में गुरु के 10वीं राशि मकर में स्थित होने पर वह नीच का होता है। भृगु संहिता के अनुसार नीच गुरु के प्रत्येक भाव में फल अलग-अलग होते हैं। नीच गुरु अशुभ फल प्रदान नहीं करे, इसके लिए लाल किताब के अनुसार उस भाव से संबंधित उपाय करें तो लाभ मिलता है

प्रथम भाव
लग्न में नीच का गुरु शरीर में दुर्बलता, भाई-बहन के सुख में कमी, पराक्रम में कमी, धनाभाव तथा बाहरी व्यक्तियो से असंतोष पैदा कराएगा। विद्या-बुद्धि में त्रुटीपूर्ण सफलता मिलेगी। स्त्री सुख तथा व्यवसाय में सफलता मिलेगी। यदि आपको प्रथम भाव में स्थित नीच गुरु के कारण उक्त परेशानियां हों, तो निम्न उपाय करना लाभकारी रहेगा।
लाल किताब का उपाय: गाय, अछूतों की सेवा करें।

द्वितीय भाव
द्वितीय भाव में नीच गुरु धन हानि करेगा तथा वाणी पर संयम नहीं होने के कारण कुटुंबजनों से मतभेद कराएगा। शारीरिक सुख व स्वास्थ्य मे कमी करेगा। माता और भूमि पक्ष कमजोर रहेगा लेकिन शत्रुपक्ष पर प्रभाव रहेगा। पिता, राज्य और व्यवसाय के पक्ष से सुख, सम्मान, सहयोग तथा लाभ की प्राप्ति संभव है।
उपाय: संस्थाओं को दान दें। घर के बाहर सड़क पर गड्ढा हो तो भरवाएं। यदि कुंड़ली में शनि दसवें भाव में हो तो सांपों को दूध पिलाएं।

तृतीय भाव
तृतीय भाव में नीचगत गुरु के प्रभाव से भाई बहिन से परेशानी तथा पराक्रम में कमजोरी रहेगी। विद्या, धन एवं कुटुंब सुख में कमी तथा स्त्री से मनमुटाव के संकेत हैं। व्यापार में परेशानी होगी, परंतु भाग्योन्नति तथा धर्मपालन में रुचि बढ़ेगी। आमदनी बढ़ेगी। ऐसा व्यक्ति सुखी तथा धनी होता है।
उपाय: मां दुर्गा की पूजा करें। कन्याओं को भोजन कराएं, दक्षिणा दें।

चतुर्थ भाव
इस भाव में स्थित नीच का गुरु भूमि, मकान तथा मातृसुख में कमी करेगा। भाई-बहिनों से असंतोष होगा और शत्रु पक्ष से परेशानी बढ़ेगी। लेकिन पुरातत्व तथा आयु की शक्ति में वृद्धि होगी। राज्य, पिता एवं व्यवसाय द्वारा सुख एवं सफलता की प्राप्ति तथा प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी।
उपाय: घर में मंदिर नहीं बनवाएं। बड़ों का आदर करें। सांप को दूध पिलाएं।

पंचम भाव
यहां पर स्थित नीचगत गुरु संतान पक्ष से कष्ट का अनुभव और बुद्धि के क्षेत्र में त्रुटि देगा। स्त्री और माता के पक्ष से कमजोरी रहेगी। भाग्य एवं धर्म की वृद्धि होगी। अपनी दिमागी शक्ति से आय तथा लाभ में वृद्धि होगी, परन्तु मानसिक तनाव बढ़ेगा। शारीरिक शक्ति एवं मान-प्रतिष्ठा बढ़ेगी।
उपाय: किसी से उपहार नहीं लें। साधु तथा पुजारी की सेवा करें।

छटा भाव
इस भाव में स्थित नीच गुरु के कारण शत्रु पक्ष से परेशानी हो सकती है। संतान तथा विद्या-बुद्धि के क्षेत्र में कमजोरी रहेगी। दैनिक जीवन के सुख में कमी रहेगी। राज्य व व्यवसाय में सफलता मिलेगी। पिता से मतभेद बढ़ेगा। बाहरी व्यक्तियों का सहयोग मिलेगा।
उपाय: गुरु से संबंधित वस्तुओं का दान करें। मुर्गियों को दाना डालें।

सातवां भाव
सप्तम भावगत नीच गुरु के प्रभाव से व्यवसाय तथा स्त्री पक्ष से कष्ट रहेगा। शत्रुओं द्वारा व्यवसाय मे हानि हो सकती है। परिश्रम द्वारा लाभ तथा पराक्रम में वृद्धि से सफलता मिलेगी।
उपाय: शिवजी की पूजा करें। पीले कपड़े में सोने का टुकडा बांधकर साथ रखें।

आठवां भाव
अष्टम भाव में नीचगत गुरु के प्रभाव से आयु तथा पुरातत्व संबंधी कठिनाइयां हो सकती हैं। स्त्री, पिता तथा व्यवसाय के पक्ष में कष्ट का अनुभव होगा। उदर तथा मूत्र विकार का सामना करना पड़ सकता है। खर्च में वृद्धि होगी।
उपाय: बहते पानी में नारियल डालें। श्मशान में पीपल का पेड़ लगाएं। मंदिर में घी, आलू और कपूर का दान करें।

नवां भाव
इस भाव में नीचगत गुरु के कारण भाग्य में कमजोरी, धर्म पालन में त्रुटि तथा आमदनी की कमी से दुख का अनुभव होगा। परिश्रम द्वारा स्वयं के प्रभाव में वृद्धि होगी। संतान से कष्ट तथा विद्या, उन्नति, प्रतिष्ठा एवं ऐश्वर्य में कमी होगी महसूस।
उपाय: प्रतिदिन मंदिर जाएं, शराब का सेवन नहीं करें। बहते पानी में चावल बहाएं।

दशम भाव इस भाव में नीच का गुरु हो तो पिता तथा राज्य पक्ष से हानि की संभावना बन सकती है। भाग्योन्नति में रुकावट, कुटुंबजन से कष्ट तथा धन का अल्प लाभ मिलेगा। माता, मकान तथा वाहन सुख मिलेगा। शत्रुओं पर विजय मिलेगी।
उपाय: बहते पानी में तांबे का सिक्का डालें। बादाम दान करें। घर में मूर्तियों के साथ मंदिर नहीं बनाएं।

ग्यारहवां भाव
इस भाव में नीच गुरु के फलस्वरुप आमदनी में कमी तथा भाग्योन्नति में रुकावट के योग बनेंगे, परन्तु पराक्रम तथा भाई बहिनों के सुख में वृद्धि होगी। संतान पक्ष की उन्नति, विद्या-बुद्धि में लाभ, सुंदर स्त्री तथा सुख सहयोग की प्राप्ति होगी।
उपाय: सोने की चेन गले में धारण करें। तांबे का कड़ा हाथ में पहिने। पीपल के पेड़ को पानी से सींचें।

बारहवां भाव
यहां पर मकर राशि में स्थित नीच का गुरु खर्च बढ़ाएगा, बाहरी व्यक्तियों से संबंध बनाने में परेशानी पैदा करेगा, संचित धन का अभाव तथा परिवारजनों से असंतोष कराएगा। माता, भूमि तथा मकान सुख में त्रुटिपूर्ण सफलता मिलेगी। झगडों एवं विवादों में परेशानियों के साथ सफलता मिलेगी।
उपाय: पीपल के पेड़ में पानी दें। संतपुरुषों की सेवा करें। रात्रि में सोते समय सौंफ व पानी पलंग के नीचे सिराहने की तरफ रखें।

 2017 और आपका भविष्य  
इन 4 उपायों से आपके पास पैसा खिंचा चला आएगा
रोटी के एक टुकडे से होगा जीवन में चमत्‍कार

Home I About Us I Contact I Privacy Policy I Terms & Condition I Disclaimer I Site Map
Copyright © 2019 I Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved I Our Team